Buffalopedia भैंस जनन
उचित जनन व्यवस्था

         

भैंस के मुख्य उत्पाद दूध ऐवम बच्चा एक सफल जनन के बाद ही प्राप्त होते है। अत: हमें जनन की ऐसी व्यवस्था रखनी चहिये कि भैंस से हर साल बच्चा मिलता रहे, तभी हमें अधिक लाभ मिल सकता है। लेकिन पशु पलकों की चिंता का कारण यही रहता है कि भैंस डेढ़ से दो साल में एक बार बच्चा देती है। किसानों से जनन से संबंधित एक शिकायत अक्सर सुनने को मिलती है कि भैंस रूकती नहीं और बोलती नहीं। भैंस का नहीं बोलना अर्थात शांत मद (गूंगा आमा) किसानों को बहुत अधिक आर्थिक नुकसान पहुंचाता है। इसी कारण भैंस का ब्यांत अन्तराल भी काफी बढ़ जाता है। सफल प्रजनन के लिए भैंस के जनन संबंधित कार्य विधि, समस्यायें और उनके निराकरण संबंधी जानकारी भैंस पालकों के लिए आवश्यक है। इन जानकारियों से भैंस पालक अनेक समस्याओं का समाधान वैज्ञानिक ढंग से खुद ही कर सकते हैं और इस तरह भैंस के दूध उत्पादन को बढ़ा सकते हैं।





 
कॉपीराइट ©: Buffalopedia,केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान ,भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, एक स्वायत्त संगठन, कृषि अनुसंधान और शिक्षा विभाग के तहत, कृषि मंत्रालय, भारत सरकार के अंतर्गत आता है| सूचना का अधिकार | अस्वीकृत करना | गोपनीयता कथन
भा.कृ.अ.प.- केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान द्वारा डिजाइन और विकसित किया गया है|